Latest Post
Home / Biography (जीवन परिचय) / A. P. J. Abdul Kalam Biography, Inspirational Story In Hindi

A. P. J. Abdul Kalam Biography, Inspirational Story In Hindi

A.P. J. Abdul Kalam Biography In Hindi
ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी

भारत रत्न(Bharat Ratna) अबुल पकिर जैनुलाबदीन जिन्हे लोग आम तौर पर डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम (Dr. A.P.J. Abdul Kalam) के नाम से जानते है। “मिसाइल मैन” के नाम से मशहूर डॉ अब्दुल कलाम, भारत के 11 वें राष्ट्रपति (2002-2007) और पहले गैर-राजनीतिज्ञ राष्ट्रपति रहे जिनको ये पद तकनीकी एवं विज्ञान में विशेष योगदान की वजह से मिला था । वर्ष 2002 में उन्हें लक्ष्मी सेहगल के खिलाफ चुना गया था और भारत के दो प्रमुख राजनीतिक दलों, भारतीय जनता पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दोनों का समर्थन था। पेशे से, वह भारत में एक वैज्ञानिक और प्रशासक (राजनेता) थे। उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के साथ भारत के राष्ट्रपति बनने से पहले एयरोस्पेस(Aerospace) इंजीनियर के रूप में काम किया। लॉन्च वाहन(Launch Vehicle) और बैलिस्टिक मिसाइल प्रौद्योगिकी(Ballistic Missile Technology) के विकास पर किये गए कार्य की वजह से उन्हें ‘मिसाइल मैन ऑफ इंडिया’ के नाम से ख्याति प्राप्त हुई । सन 1974 में मूल परमाणु परीक्षण के बाद 1998 में आयोजित पोखरन-2(Pokhran-2) परमाणु परीक्षणों(Nuclear Tests) में उन्हें एक निर्णायक राजनीतिक, संगठनात्मक और तकनीकी(Political, Organizational and Technical) भूमिका में देखा गया।

A P J Abdul Kalam Biography In Hindi, Histroy, Story

डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान, इंदौर में विजिटिंग प्रोफेसर थे; भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद; और भारतीय प्रबंधन संस्थान, शिलांग और मैसूर में जेएसएस विश्वविद्यालय और चेन्नई में अन्ना विश्वविद्यालय में एरोस्पेस(Aerospace) इंजीनियरिंग के प्रोफेसर थे, भारत में अन्य अनुसंधान और अकादमिक संस्थानों में एक सहायक और विज़िटिंग फैकल्टी के अलावा। वह भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु और थिरुवनंतपुरम में भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान के कुलपति के मानद साथी थे।

अपनी पुस्तक इंडिया 2020′ में उन्होंने 2020 तक देश को पूरी तरह से विकसित करने की योजना की सिफारिश की। छात्र समुदाय के साथ उनकी बातचीत और उनके प्रेरक भाषण ने उन्हें युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय बना दिया। 2011 में, उन्होंने भारत के युवाओं के उद्देश्य से ‘मैं क्या दे सकता हूं आंदोलन’ नामक एक मिशन का शुभारंभ किया, जिसने देश में भ्रष्टाचार को दूर करने पर ध्यान केंद्रित किया।

डॉ..पी.जे. अब्दुल कलाम का इतिहास व संक्षिप्त जीवन परिचय

DR. A.P.J. Abdul Kalam Biography and History in Hindi

पूरा नाम  – डॉक्टर अबुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम
जन्म  15 अक्टूबर 1931
जन्मस्थान – धनुषकोडी गांव, रामेश्वरम, तमिलनाडु
पिता       – जैनुलाबदीन
माता       – अशींमा जैनुलाबदीन
म्रत्यु 27 जुलाई 2015
पद भारत के पूर्व राष्ट्रपति
राष्ट्रपति बने 2002-07
शौक किताबें पढना, लिखना, वीणा वादन

A. P. J. Abdul Kalam Education & Early Life Story जीवन और शिक्षण

अबुल पाकिर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 में एक तमिल मुस्लिम परिवार और थोड़ा शिक्षित तमिल परिवार में तीर्थयात्रा के दौरान, पम्बन द्वीप पर रामेश्वरम में हुआ, जो पहले मद्रास में था और अब वह तमिलनाडु राज्य में है. उनके पिता एक नाव चालक(Boat Driver) और पास ही की स्थानिक मस्जिद के इमाम थे, उनकी माता अशींमा, एक गृहिणी थी. उनके पिता ने एक नाव खरीद रखी थी जो रामेश्वरम आये हिंदु तीर्थयात्रियो को एक छोर से दुसरे छोर पर छोड़ते थे.

कलाम 5 भाई बहन थे और कलाम अपने चार भाइयो में सबसे छोटे थे और एक बहन थी. उनके पूर्वज जमींदार थे और साथ ही बहुत अमीर भी थे उन्होंने उनके लिए बहुत सी जमीन छोड़ रखी थी. उनका मुख्य व्यवसाय श्री लंका (Sri Lanka) से अनाज का व्यापार करना था और रामेशवरम आये तीर्थयात्रियो को एक जगह से दूसरी जगह ले जाना था जैसे की रामेश्वरम से पम्बन. और परिणामतः उनके परिवार को एक नया शीर्षक मिला “Mara Kalam Iyakkivar (लकड़ी की नाव से मार्ग दिखाने वाले)”, और ये नाम कुछ साल बाद छोटा होकर “Marakier” बना.

1914 में पम्बन पुल (Pamban Bridge) के उदघाटन के साथ ही, उनके परिवार का व्यापार पूरी तरह से बंद हो गया और समय के साथ-साथ उन्होंने अपनी सारी जमीन भी खो दी थी, और अपने पुराने घर से भी अलग हो गये थे, कलाम के बचपन में ही उनका परिवार गरीब हो गया था, और उन्होंने अपने परिवार की आर्थिक सहायता करने के उद्देश से वे छोटी सी उम्र में अखबार वितरण का काम करना शुरू कर दिया।

उन्होंने स्कूल में औसत ग्रेड प्राप्त किया लेकिन चीजों को सीखने की तीव्र इच्छा के साथ वे मेहनती और उज्ज्वल छात्र थे। वह घंटों अध्ययन करते थे, खासकर गणित।

Schwartz Higher Secondary School, रामनाथपुरम से अपनी पढाई पूरी करने के बाद, उन्होंने तिरुचिरापल्ली में सेंट जोसेफ कॉलेज (मद्रास यूनिवर्सिटी की शाखा) से 1954 में वे भौतिक विज्ञानं से स्नातक हुए.

इसके बाद, 1955 में, वह मद्रास (अब चेन्नई) चले गए और मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में शामिल हुए और अन्तरिक्ष प्रोद्योगिकी (एयरोस्पेस(Aerospace)) अभियांत्रिकी(इंजीनियरिंग) का अध्ययन किया। जब कलाम किसी वरिष्ट कक्षा के प्रोजेक्ट(Project) पर काम कर रहे थे, वहा के डीन उनकी प्रगति से नाखुश थे और उन्होंने कलाम को छात्रवृत्ति रद्द करने की धमकी भी दी और 3 दिनों में सही तरह से प्रोजेक्ट बनाने के लिए कहा.

उस समय कलाम अपनी अन्तिम्रेखा पर थे, लेकिन आखिर में उन्होंने डीन को खुश कर ही दिया और अंत में डीन ने कहा, “मैंने तुम्हे बहुत मुश्किलों और बाधाओ में डाल दिया था”. उनका सपना एक लड़ाकू पायलट बनना था, लेकिन वह नौवें स्थान पर थे, जबकि वायुसेना (IAF (इंडियन एयर फ़ोर्स)) ने केवल आठ स्लॉट्स की पेशकश की थी। वह एक स्नातक बने रहे।

अग्नि, पृथ्वी, आकाश, त्रिशूल और नाग मिसाइलों पर काम किया और उन्होंने देश की प्रतिष्ठा को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाया।

वर्ष सम्मान संगठन
2014 डॉक्टर ऑफ साइंस एडिनबर्ग विश्वविद्यालय , ब्रिटेन
2012 डॉक्टर ऑफ़ लॉ ( मानद ) साइमन फ्रेजर विश्वविद्यालय
2011 आईईईई मानद सदस्यता आईईईई
2010 डॉक्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग वाटरलू विश्वविद्यालय
2009 मानद डॉक्टरेट ऑकलैंड विश्वविद्यालय
2009 हूवर मेडल ASME फाउंडेशन, संयुक्त राज्य अमेरिका
2009 अंतर्राष्ट्रीय करमन वॉन विंग्स पुरस्कार कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान , संयुक्त राज्य अमेरिका
2008 डॉक्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय , सिंगापुर
2007 चार्ल्स द्वितीय पदक रॉयल सोसाइटी , ब्रिटेन
2007 साइंस की मानद डाक्टरेट वॉल्वर हैम्प्टन विश्वविद्यालय , ब्रिटेन
2000 रामानुजन पुरस्कार अल्वर्स रिसर्च सैंटर, चेन्नई
1998 वीर सावरकर पुरस्कार भारत सरकार
1997 राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1997 भारत रत्न भारत सरकार
1994 विशिष्ट फेलो इंस्टिट्यूट ऑफ़ डायरेक्टर्स (भारत)
1990 पद्म विभूषण भारत सरकार
1981 पद्म भूषण भारत सरकार

 

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम मृत्यु  : A. P. J. Abdul Kalam Death

27 जुलाई 2015 को, कलाम “Creating a Livable Planet Earth” पर भाषण देने के लिए इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट (Indian Institute of Management), शिलोंग गये. और तक़रीबन 6:35 P.M IST के आस-पास, उनके भाषण के 5 मिनट बाद ही, वे नीचे गिरे. उन्हें जल्दी ही इस अवस्था में पास के बेथानी हॉस्पिटल(Bethany Hospital) में ले जाया गया, जहा उनकी नाडी में कोई हलचल नहीं हो रही थी और जीवन के कोई संकेत नहीं दिखाई दे रहे थे. उन्हें अन्य जगह पर ले जाने से पूर्व ही 7:45 P.M IST को अचानक हृदय विकार से उनकी मौत हो चुकी थी उनके अंतिम शब्द(Last Word) उनके सहायक श्रीजन पाल सिंह के लिए थे, जो खबरों के अनुसार : “मजाकिया व्यक्ति! क्या तुम अच्छा कर रहे हो?” थे.

30 जुलाई 2015 को, भारत के राष्ट्रपति रामेश्वरम के पी करुम्बू मैदान पर पुरे विश्व के सम्मान के साथ मिटटी मं ओझल हो गये. उनकी अंतिम यात्रा में करीब 3,50,000 ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई, जिनमे भारत के प्रधानमंत्री, तमिलनाडु के अध्यापक और कर्नाटक, केरला और आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी शामिल थे.

डॉ. अब्दुल कलाम की महत्वपूर्ण उपलब्धियां

  1. 1997 में भारत रत्न से हुए थे सम्मानित।
  2. 1981 में पद्म भूषण अवार्ड।
  3. 1982 में अन्ना यूनिवर्सिटी ने उन्हें डॉक्टर की उपाधि से सम्मानित किया।
  4. 1990 में पद्म विभूषण अवार्ड।
  5. 1999 में डॉ. कलाम भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार बनें।
  6. 1962 में”भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) से जुड़े।
  7. 2002 में वह भारत के 11वें राष्ट्रपति बनें।

Note—» दोस्तों आपको ये डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम जीवन परिचय का ये आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताना और इस पोस्ट को अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ताकि वो भी अपनी जिंदगी में सही फैसला ले सके और हम आपको बता दे की हम ऎसी ही प्रेरणादायक कामयाब लोगो की कहानिया आप तक पहुंचाते रहेंगे|

डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी में किसी भी गलती पर गौर करेंकृपया हमें Comment में जरूर बताएं धन्यवाद!

Love It!

User Rating: 5 ( 14 votes)

Check Also

sanjay mishra success story in hindi, biography in hindi

Sanjay Mishra Biography in Hindi | संजय मिश्रा जीवन परिचय | Success Story

नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है | दोस्तों आज हम बात करने जा रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *