Latest Post
Home / Story (कहानी) / Ancient Stories (प्राचीन कहानियां) / Golden Temple History in Hindi, Harmandir Sahib History, Story

Golden Temple History in Hindi, Harmandir Sahib History, Story

स्वर्ण मंदिर का इतिहास और जानकारी | Golden Temple History in Hindi

नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है |

स्वर्ण मंदिर (Golden Temple) – श्री हरमंदिर साहिब, जिसे स्वर्ण मंदिर (Golden Temple)  के रूप में जाना जाता है, जिसका का शाब्दिक अर्थ है “भगवान का घर”। यह सिख धर्म का पावनतम धार्मिक स्थल या सबसे प्रमुख गुरुद्वारा है, श्री दरबार साहिब को अनौपचारिक रूप से स्वर्ण मंदिर के रूप में जाना जाता है, जो अमृत सरोवर (Amrit lake) से घिरा हुआ है। यह भारत में पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित है और यहाँ का सबसे बड़ा आकर्षण है। पूरा अमृतसर(Amritsar) शहर स्वर्ण मंदिर (Golden Temple) के चारों तरफ बसा हुआ है। स्वर्ण मंदिर में प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं।

अमृतसर (शाब्दिक रूप से, अमृतता के अमृत की टैंक (अमृत सरोवर (Amrit lake))) की स्थापना 1577 में चौथे सिख गुरु, गुरु राम दास ने की थी, यह गुरु अर्जुन देव जी की निगरानी में बनाया गया था, पांचवें सिख गुरु। वह सिखों के लिए पूजा की एक आम जगह(Common) बनाना चाहते थे, जहां सभी सिख इकट्ठा हो सकते थे और सर्वशक्तिमान(GOD) को प्रार्थना कर सकते थे। यह गुरुद्वारा इसी सरोवर के बीचोबीच (In The Middle) स्थित है। इस गुरुद्वारे का बाहरी हिस्सा सोने का बना हुआ है, इसलिए इसे स्वर्ण मंदिर अथवा गोल्डन टेंपल (Golden Temple) के नाम से भी जाना जाता है।

भले ही यह सिख धर्म के अनुयायियों के लिए एक पवित्र तीर्थ (Holy Shrine) स्थान से कम नहीं है लेकिन यहां विभिन्न धर्मों के लोग आकर अपना माथा टेकते और मन्नत भी मांगते हैं। गुरु अमरदास साहिब,ने पवित्र टैंक (अमृत सरोवर (Amrit lake)) की खुदाई की योजना बनाई थी, लेकिन इसे केवल बाबा बुद्ध जी की देखरेख में गुरु रामदास साहिब द्वारा निष्पादित(Executed) किया गया था।

Golden Temple History in Hindi, Amritsar

साइट के लिए जमीन गुरु राम दास साहिब द्वारा देशी गांवों के ज़मीनदारों (Landlords) से भुगतान पर खरीदी गई थी। एक शहर स्थापित करने की योजना भी बनाई गई थी। इसलिए,  अमृत सरोवर (Amrit lake) और शहर पर निर्माण कार्य 1570 में एक साथ शुरू हुआ।

अमृत सरोवर (Amrit lake) को 1577 ईस्वी में खोला गया था और बाद में इसे “अमृतसर” कहा जाता था, जिसका अर्थ अमरत्व के अमृत के पूल का था। इसने शहर का नामकरण करने में योगदान दिया , जो इसके आसपास बढ़ी (अमृतसर)। निश्चित रूप से, एक शानदार सिख भवन, दरबार साहिब (भगवान का मंदिर), इस टैंक(Amrit lake) के बीच में बनाया गया था जो सिख धर्म का मुख्य केंद्र बन गया। दोनों परियोजनाओं पर काम पूरा 1577 ईस्वी में हो गया |

गुरु अर्जुन देव जी ने लाहौर के एक मुस्लिम संत हजरत मियान मीर जी की सहायता से स्वर्ण मंदिर(Golden Temple) की नींव 1 मग (दिसंबर, 1588) पर रखी | बाबा बुद्ध जी, भाई गुरदास जी, भाई सहलो जी और कई अन्य समर्पित(Dedicated) सिख जैसे प्रमुख सिख व्यक्तित्वों की सहायता से गुरु अर्जुन साहिब द्वारा निर्माण कार्य की प्रत्यक्ष निगरानी की गई थी। गुरु अर्जुन साहिब ने पारंपरिक हिंदू मंदिर वास्तुकला(Architecture) के विपरीत, निचले स्तर पर इमारत का निर्माण किया, जहां इसे सामान्य रूप से उच्च संरचना पर बनाया जाता है।

एक और पहलू में एक मंदिर से विचलित स्वर्ण मंदिर(Golden Temple)  में अंदर आने और बाहर निकलने के लिए केवल एक द्वार होने के बजाय चारों ओर से खुले प्रवेश द्वार है । यह एक नए विश्वास की शुरुआत का प्रतीक है, जो लोगों को जाति, पंथ, लिंग और धर्म के किसी भी भेद(Distinction) के बिना गले लगाता है। इमारत का काम 1604 ईस्वी में पूरा हुआ और गुरु अर्जुन देव जी ने इसमें आदि ग्रंथ स्थापित किया। उन्होंने बाबा बुद्ध जी को अपनी पहली ग्रंथी अर्थात गुरु ग्रंथ साहिब के पाठक नियुक्त किया। इस घटना के बाद, इसे ‘अथ साथ तीरथ की स्थिति मिली।

Legends Connected With Amrit Sarovar (अमृत ​​सरोवर से जुड़ी किंवदंतियों)

अमृत सरोवर (Amrit lake) से जुड़ी सबसे लोकप्रिय किंवदंती, राय दुनी चंद की पुत्री रजनी की कहानी है। रजनी गुरु के उत्साही भक्त थी । एक दिन, उसके पिता को तीनों बेटियों के लिए कुछ उपहार (Gifts) मिले। उपहार के लिए अन्य दो बेटियों ने पिता की प्रशंसा की, जबकि रजनी ने कहा कि उपहार वास्तव में भगवान से थे और उनके पिता ही इसे वितरित करने का माध्यम थे। यह सुनकर, पिता बहुत गुस्सा हो गये और रजनी की शादी एक कुष्ठ रोगी(Leprosy) से करा दी। तब से, रजनी ने खुद और अपने पति को बनाए रखने(Living) के लिए संघर्ष करना आरम्भ कर दिया।

एक दिन, रजनी ने टोकरी और अपने पति को तालाब(Pool) के पास छोड़ कर कुछ काम के लिए चली गयी| इस बीच, उसके पति ने तालाब(Pool) में गिरे एक कौए को देखा जो तालाब(Pool) में गिरने के कारण एक सफेद पक्षी में परिवर्तित हो गया। दृष्टि से उत्साहित, वह भी पानी में गिर गया और चमत्कारी परिवर्तन हुआ। वह सभी बीमारियों(Illnesses) से ठीक होकर एक सुन्दर युवक में बदल गया। जोड़े ने भगवान का शुक्रिया अदा किया और घटना को वर्णित करने के लिए अपने गुरु के पास गया। ऐसा माना जाता है कि तब से, टैंक यानि तालाब(Pool) को “अमृत सरोवर” के नाम से जाना जाता है जिसका अर्थ है “अमृत का पूल”।

Note—» दोस्तों Golden Temple History in Hindi मे दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया   कमेंट करके जरूर बताना और इस पोस्ट को अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ताकि हम ओर रोचक मंदिरो की जानकारी आप तक पहुंचते रहे, Golden Temple History in Hindi व नयी पोस्ट डाइरेक्ट ईमेल मे पाने के लिए Free Email Subscribe करे, धन्यवाद।

Love It !

User Rating: 5 ( 9 votes)

Check Also

true love story in hindi

True Love Story in Hindi, Sad Romantic Story, सच्चे प्यार की दर्द भरी कहानी

   नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है |   दोस्तों आज मैं बात करने …

6 comments

  1. Manpreet Singh

    Best topic, as I like it… I visited the same place truly awesome, it touches my heart.

    Best wishes for author.

  2. स्वर्ण मंदिर mera sabse favorite h… I love to go Amritsar just to see the स्वर्ण मंदिर.. Love to my god,,, Waheguru.

  3. Bimaljeet Kaur

    Sau Bar Waheguru ka naam japo,,,, Mann ko Shanti milegi.. #GoldenTemple

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *