Home / Dosti Shayari / हाथों में मेरे किताब…

हाथों में मेरे किताब…

हाथों में मेरे किताब…
और सामने तेरा किताबी चेहरा
किताब पढ़ा जाता नही..
और तेरा चेहरा पढ़ने आता नही।

User Rating: 4.74 ( 5 votes)

About Hindi Shayari

Check Also

Ishq Jism Se Nhi Ruh Se Kiya Jata Hai | Mohabbat Shayari

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥ इश्क़ जिस्म से नही रूह से किया जाता है, जिस्म तो एक लिबास है, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

हमारे लेख अपनी E-MAIL में सबसे पहले पाने के लिए अपनी E-MAIL ID लिखकर SUBSCRIBE NOW पर क्लिक करें।