Home / Hindi Urdu Ghazals / जवानी का मोड़…

जवानी का मोड़…

 

लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं,
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं,

मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ,
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं,

नींद से मेरा ताल्लुक़ ही नहीं बरसों से,
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं,

मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए,
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं।

– राहत इंदौरी

User Rating: 4.84 ( 8 votes)
Loading...

Check Also

Abdul Hamid Adam | Girte Hain Log Garmi-E Bazaar Dekh Kar !!!!

Girte hain log garmi-e bazaar dekh kar, sarkaar dekh kar meri sarkaar dekh kar. Aawaargi …

One comment

  1. Very Nice Ghazal “जवानी का मोड़…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

हमारे लेख अपनी E-MAIL में सबसे पहले पाने के लिए अपनी E-MAIL ID लिखकर SUBSCRIBE NOW पर क्लिक करें।