Latest Post
Home / Dard Shayari / राहत इन्दोरी | अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे !!!!

राहत इन्दोरी | अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे !!!!

rahat indoriअब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

Love It!

User Rating: 4.85 ( 2 votes)

Check Also

Sad Dard Pyar Shayari in Hindi

Teri Nafrat Ne Ye Kya Sila Diya Mujhe, Sad Love Shayari

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥ तेरी नफ़रत ने ये क्या, सिला दिया मुझे, ज़हर गम-ए-जुदाई का, पिला दिया मुझे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *