Biography (जीवन परिचय) Inspirational Stories Motivational Stories Story (कहानी) Success Stories

Sanjay Mishra Biography in Hindi | संजय मिश्रा जीवन परिचय | Success Story

sanjay mishra success story in hindi, biography in hindi

नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है |

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है हिंदी फिल्म जगत के एक ऐसे कलाकार के बारे में जो हमें अपनी एक्टिंग से रुला सकते हैं, हंसा सकते हैं, और डरा भी सकते हैं आज उन्हें लगभग इंडिया का बच्चा बच्चा जनता है उस मंझे हुए कलाकार का नाम है “संजय मिश्रा” जिन्होंने कई फ़िल्मों तथा टेलीविज़न धारावाहिकों में अभिनय से अमिट छाप छोड़ी है।

“कड़ी से कड़ी जोङते जाओ तो जंजीर बन जाती है॥
मेहनत पे मेहनत करो तो तक़दीर बन जाती है।“

संजय का जन्म 6 अक्टूबर 1963 को दरभंगा, बिहार में एक हिन्दू परिवार में हुआ था। इनके पिता शम्भुनाथ मिश्रा जो कि एक पत्रकार थे। संजय को बचपन से ही एक्टिंग में बहुत ज्यादा रूचि थी | संजय ने अपनी हाई स्कूल की पड़े पटना के ही एक स्कूल से की और उसके बाद इन्होंने बैचलर की डिग्री पूरी कर राष्ट्रीय ड्रामा स्कूल में प्रवेश किया और सन 1989 में स्नातक हो गए।

sanjay mishra success story in hindi, biography in hindi

“National School of Drama” में अपनी एक्टिंग पूरी कर अपना भाग अजमाने के लिए बॉलीवुड में कदम रखा और शुरुवाती दिन में संजय मिश्रा जी को बहुत ही मुस्किलो का सामना करना पड़ा, संजय मिश्रा ने पहला अभिनय जो कि एक टेलीविज़न धारावाहिक चाणक्य (धारावाहिक)” में किया था, इससे पहले इन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ भी कार्य करने का मौका मिला था। शुरुवात में संजय फिल्मो में छोटे मोटे रोले के साथ 2 “Commercial Ads” में भी काम किया करते थे |

Sanjay Mishra ने बॉलीवुड में अपने कैरियर की शुरुवात 1995 में फिल्म “ओह डार्लिंग ये है इंडिया” से की थी,| जिसमें उन्होंने हारमोनियम बजाने वाले की एक छोटी सी भूमिका अदा की थी, इस फिल्म में Sanjay mishra के एक्टिंग की बहुत तारीफ की गई, साथ ही सत्या और दिल से जैसी फ़िल्मों भी में काम किया।

ऑफिस ऑफिस”नाम के सीरियल में उनके द्वारा निभाए गए शुक्ला जी के किरदार से उन्हें काफी पहचान मिली। 2005 में धारावाहिक छोड़ने के बाद उन्होंने “बंटी और बबली” और “अपना सपना मनी मनी” फ़िल्मों में अपनी भूमिका निभाई|

उनके जीवन की सबसे दुर्भाग की बात तो ये थी की उन्होंने १०० से ज्यादा फिल्मो में अभिनय करने के बावजूद उन्हें कोई पहचान नहीं मिल पाई, उन्हें अपने पिता जी से बहुत लगाव था, इसलिए जब उनके पिता का देहांत हुआ तब उन्होंने फिल्म जगत से अपना नाता तोड़ लिया और फिल्म जगत से बहुत दूर ऋषिकेश जाकर एक ढाबे में काम करने लगे, वहां पर वो सब्जियां काटते, खाना बनाते और लोगों को खिलाते इसी तरह उनका समय धीरे-धीरे बीतने लगा | उन्होंने फिल्मों में काम करने की आशा छोड़ दी थी, और अपनी जिंदगी से पूरी तरह से निराश हो चुके थे |

उनकी जिंदगी में बहुत बड़ा परिवर्तन तब आया जब उनके ढाबे पर जाने-माने निर्देशक रोहित शेट्टी पहुच गए चूँकि संजय रोहित की फिल्म “गोलमाल” में काम कर चुके थे इसलिए रोहित संजय को तुरंत पहचान गए | रोहित को उनकी हालात पर काफी अफ़सोस हुआ | उस समय रोहित अपनी फिल्म “All The Best” पर काम कर रहे थे, उन्होंने संजय को उस फिल्म में काम करने के लिए राजी किया |

All The Best” मूवी Sanjay Mishra के लिए मील का पत्थर साबित हुई, इस फिल्म में Sanjay की एक्टिंग की बहुत तारीफ की गई, ये फिल्म Sanjay Mishra के बॉलीवुड career को एक नए मोड पर लेकर आई, और उसके बाद तो जैसे चमत्कार ही हो गया, फिल्म हिट हुई और उसके बाद से अब तक उन्होंने कई फिल्मों में काम किया और सभी फ़िल्में रहीं |

संजय को फिल्म “All The Best” में उनके द्वारा बोले गए डॉयलाग ‘ढ़ोढूं जस्ट चिल‘ और फ़िल्म “One Two Three” में उनकी कॉमिक टाइमिंग को लोगो ने काफी पसंद किया ।

2015 की एक और हिट फ़िल्म प्रेम रतन धन पायो में भी कार्य करने का मौका मिला। और इसी साल में इन्हें फिल्म आँखों देखी के लिए फ़िल्मफ़ेयर क्रिटिक अवॉर्ड फ़ॉर बेस्ट एक्टर और स्टार स्क्रीन अवार्ड फॉर बेस्ट एक्टर से नवाजा गया।

संजय मिश्रा की धर्मपत्नी का नाम किरण मिश्रा है, उनकी उनके दो बच्चे पल मिश्रा और लम्हा मिश्रा हैं |

sanjay mishra biography in hindi, success story in hindi

संजय मिश्रा जी की प्रसिद्ध फिल्‍में

ओह डार्लिंग ये है इंडिया, सत्या, दिल से, फिर भी दिल है हिंदुस्तानी, साथिया, जमीन, प्लान, ब्‍लफमास्‍टर, बंटी और बबली, गोलमाल, अपना सपना मनी मनी, गुरू, बॉम्बे टू गोवा, धमाल, वेलकम, वन टू थ्री, क्रेजी 4, गॉड तुसी ग्रेट हो, गोलमाल रिटर्न्‍स, ऑल द बेस्‍ट: फन बिगिन्‍स, अतिथि तुम कब जाओगे, गोलमाल 3, फंस गए रे ओबामा, चला मुसद्दी ऑफिस ऑफिस, सन ऑफ सरदार, जॉली एलएलबी, बॉस, आंखो देखी, भूतनाथ रिटर्न्‍स, किक, दम लगा के हईशा”।

 

संजय मिश्रा संछिप्त जीवन परिचय (Sanjay Mishra Biography & Statistics)

पूरा नाम (Name) – संजय मिश्रा (Sanjay Mishra),
घर का नाम (Nick Name) – संजय (Sanjay),
जन्मदिन (DOB) – 6 अक्तूबर 1963,
जन्मस्थान (Birth Place)दरभंगा, बिहार,
देश (Country) – इंडिया (India),
Height– 5 फीट 4 इंच,
Weight– 52 किलोग्राम,
आखों का रंग– black (काला),
हेयर कलर– black (काला),
जूते का साइज़– 6 नंबर,
Occupation– फिल्म एक्टर और कॉमेडियन,
पिता का नाम– शम्भू नाथ मिश्रा,
Marital Status– Married,
पत्नी का नाम– किरण मिश्रा,
बच्चो का नाम– पल मिश्रा और लम्हा मिश्रा,
धर्म (Religion) – हिन्दू (Hindu),
Hobbies – फिल्मो में कॉमेडी रोल करना,
भाषा (Language) – हिंदी और इंग्लिश,
सबसे प्रिय खाना– सभी इंडियन खाना |

Note—» दोस्तों आपको ये “संजय मिश्रा” की संघर्ष की कहानी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताना और इस पोस्ट को अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ताकि वो भी अपनी जिंदगी में सही फैसला ले सके और हम आपको बता दे की हम ऎसी ही प्रेरणादायक कामयाब लोगो की कहानिया आप तक पहुंचाते रहेंगे|

About the author

Hindi Shayari

नमस्कार दोस्तों “hindishayarie.in” में आपका स्वागत है | यहां पर आपको Hindi Shayari, SMS, Quotes, Biography, History, Sports, Love Story, Movie Dialogues इत्यादि से जुड़े हिंदी ब्लॉग मिलेंगे, "hindishayarie.in" से जुड़े रहने के लिए सब्सक्राइब जरूर करें। धन्यवाद दोस्तों..

Add Comment

Click here to post a comment

Topics